उत्तर प्रदेश

मंडप से सीधे विद्यालय पहुँची दुल्हन, दी परीक्षा

– गुरुवार की रात सिंगरौली जिले से आई थी बारात
जिले के शाहगंज के कुशहरा गांव में स्थित एक महिला महाविद्यालय में लोग आश्चर्य चकित हो गए जब फूल मालाओं से सजी एक कार में सवार होकर एक दुल्हन महाविद्यालय पहुँची। वह परीक्षा देने के लिए सीधे मंडप से उठकर महाविद्यालय में आई थी। परीक्षा देने के बाद वही से उसकी विदाई हुई और वह सीधे ससुराल के लिए रवाना हो गयी।
सोनभद्र के घोरावल तहसील की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के गढ़वा के खैडार की रहने वाली जुड़ावती वैश्य शाहगंज के कुशहरा स्थित श्रीप्रमोद जी महिला महाविद्यालय में बीए तृतीय वर्ष की छात्रा है। परिवार के लोगों ने पढ़ाई के दौरान ही उसकी शादी भी तय कर दी। शादी की तारीख भी गुरुवार 26 मई पक्की कर दी गयी। इसी बीच छात्रा के तृतीय वर्ष की परीक्षा की तिथि भी निर्धारित हो गयी। अब 26 मई को उसकी शादी और 27 मई की सुबह ही परीक्षा की तिथि को लेकर वह काफी परेशान हो गयी। छात्रा के पिता लालजी वैश्य के मुताबिक छात्रा जुड़ावती ने उनसे कहा कि शादी की तिथि भले ही निर्धारित हो गयी हो, लेकिन वह परीक्षा भी नही छोड़ेगी। अगर परीक्षा छूट गयी तो उसकी पूरे साल की मेहनत बर्बाद हो जाएगी। इस बात को सुनकर वे परेशान हो गए कि लड़के पक्ष के लोग इस बात पर राजी होंगे या नही। उन्होंने लड़के के स्वजनों से बात की तो आश्वासन मिला, फिर भी उन्हें संतुष्टि नही हुई। गुरुवार 26 मई की रात छात्रा की बारात सिंगरौली के आमचुना से आई। परिवार वालों ने बारातियों का स्वागत किया। इसके बाद जयमाल के दौरान माला पहनाने से पहले दुल्हन ने अपने दूल्हे से परीक्षा के बाद ही विदाई होने की बात रखी। इस दूल्हा व परिवार के लोग राजी हो गए। रात भर विवाह का कार्यक्रम चला इसके बाद छात्रा दुल्हन के वेष में ही सीधे मंडप से परीक्षा देने के लिए महाविद्यालय दूल्हे की फूल मालाओं से सजी कार में पहुँच गयी। महाविद्यालय में मौजूद अन्य छात्राओं ने उसका स्वागत किया। परीक्षा समाप्त होने के बाद महाविद्यालय की कार्यवाहक प्राचार्य डॉ मनोरमा मिश्रा व प्रबंधक डॉ सुधीर कुमार मिश्र ने पूरे सम्मान के साथ दुल्हन बनी छात्रा की विदाई की, जो पूरे दिन चर्चा का विषय बनी रही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button