सोनभद्र

समाज कल्याण विभाग ने जिंदा महिला को मृत घोषित किया ,

 

आनिल जायसवाल

डाला सोनभद्र-समाज कल्याण विभाग ने जिंदा महिला को मृत घोषित किया , चोपन विकास खंड अंतर्गत ग्राम पंचायत कोटा के धवाईडण्डी टोला निवासी गंगा देवी पत्नी त्रिवेणी को समाज कल्याण विभाग द्वारा मृतक घोसित कर पेंशन रोक दिया गया, गंगा देवी बैंक का चक्कर काट काट थक चुकी । गंगा देवी को बैंक भी मृतक मानते हुए पैसा देने से इनकार कर दिया
ग्राम पंचायत कोटा के धवइडण्डी टोला निवासी गंगा देवी पत्नी त्रिवेणी 65 वर्ष के जिंदा होने के बावजूद भी समाज कल्याण विभाग द्वारा मृतक घोसित कर बृद्धा पेंशन रोक दिया गया। गंगा देवी जब डाला स्थित पंजाब नेशनल बैंक में 27 नवंबर 2020 को पैसा निकालने के गई तो बैंक कर्मी ने बताया कि आपका पैसा निकाला नही जा सकता। अनपढ़ बृद्ध महिला कुछ और न सोचते हुए अपने घर लौट आयी। दुबारा 08 दिसम्बर 2020 ,तीसरे बार 28 दिसम्बर 2020 , व चौथे बार 17 मार्च 2021 को जब बैंक पहुच के फार्म भरी तो बैंक द्वारा बताया गया कि आपको समाज कल्याण विभाग द्वारा मृतक घोसित कर दिया गया है जिसकी वजह से आपका भुगतान नही किया जा सकता। जबकि गंगा देवी के खाते में 14994.80 (चौदह हजार नौ सौ चौरानबे रुलाये अस्सी पैसे) मात्र है। इस सम्बंध में पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजर ने बताया कि 26 अगस्त 2020 को समाज कल्याण बिभाग द्वारा हमारे बैंक को लेटर प्राप्त हुआ की बृद्धा पेंशनर गंगा देवी मृतक हो चुकी है इनका भुगतान रोक दीया जाय। वही समाज कल्याण विभाग द्वारा प्रार्थी को एक माह पूर्व मृतक घोसित किया जाता है व 17 सितंबर 2020 को गंगा देवी के खाते में 14242.36 रुपया ट्रान्सफर भी कर दिया जाता है। स्वयं गंगा देवी द्वारा तहसील से शपथ पत्र बनवा कर भी बैंक को जीवित प्रमाण के लिए दिया जाता है फिर भी कोई सुनवाई नही होती है
इस सम्बंध में गंगा देवी ने बताया कि पेंशन निकालते समय कुछ दलाल महिलाएं पैसा मांगती व छीन लेती है। मेरे द्वारा न देने पर ही शिकायत की गई जिसने मेरा पेंशन बन्द करा दिया गया।
समाज कल्याण अधिकारी रामशंकर यादव ने बताया कि विकास खण्ड चोपन द्वारा मेरे यहाँ मृतक होने का प्रमाण भेजा गया है जिससे पेंशन पर रोक लगाया गया है। जिंदा होने का प्रमाण मिलते ही चालू करा दिया जाएगा।
विकास खंड चोपन के एडीओ आईएसबी राजेश कुमार ने बताया कि यह कार्यवाही ग्रामपंचायत विकास अधिकारी के रिपोर्ट पर की गई होगी। उनके द्वारा रिपोर्ट लगने के बाद ही मृतक माना गया होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button