उत्तर प्रदेश

बैंक के कैशियर का भाई बता कर लगाया बीस हजार की चपत

बैंक के कैशियर का भाई बता कर लगाया बीस हजार की चपत

भारतीय स्टेट बैंक के गेट पर ही घटित हुई घटना

चोपन (संवाददाताअशोक मद्धेशिया)स्थानीय मुख्य बाजार गुरुद्वारा इंटर कॉलेज के बगल थोड़ी दूर पर स्थित भारतीय स्टेट बैंक की शाखा मैं पैसा जमा करने गए एक युवक से अपने आप को कैशियर का भाई बता कर ठग ने ₹20000 रुपए ऐंठ लिए और रफूचक्कर हो गया जानकारी होने पर भुक्तभोगी ने माथा पीट लिया घटना की सूचना बैंक मैनेजर तथा बैंक परिसर में ही ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों को दी।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक जुगैल थाना क्षेत्र के भरहरी गांव निवासी राजपति यादव पुत्र झूल्लूर यादव मंगलवार की दोपहर स्थानीय स्टेट बैंक के शाखा में ₹20000 नगद लेकर अपने खाते में जमा कराने गया था बैंक में पहले से ही जमा तथा निकासी के लिए काफी लोगों की लाइन लगी हुई थी भुक्तभोगी के अनुसार वहां एक व्यक्ति चेहरे पर मास्क लगाए हुए मौजूद था जो लोगों को लाइन में लगे रहने के लिए ताकीद कर रहा था और लोगों को टोकन तथा जमा और निकासी करने के लिए पर्चा भी दे रहा था वह व्यक्ति बैंक में मौजूद सिक्योरिटी गार्ड से भी रह रह कर बीच-बीच में बातचीत भी कर रहा था उसने राजपति से अपने को बैंक के कैशियर का भाई बताते हुए बिना लाइन में लगे ही बैंक में रुपया जमा कराने की बात कर रुपए ले लिए और थोड़ी देर तक इधर-उधर घूमने के बाद मौके से फरार हो गया कुछ देर बाद पीड़ित द्वारा उसे काफी खोजने के बाद भी जब उसका पता नहीं चला तो उसने बैंक मैनेजर से मुलाकात कर अपने साथ घटी घटना के बारे में जानकारी दी जांच पड़ताल के बाद पता चला कि राजपति के खाते में कोई पैसा जमा ही नहीं किया गया है और वह किसी जालसाज व्यक्ति द्वारा ठगी का शिकार हो गया है जानकारी होने पर पीड़ित के होश फाख्ता हो गए और चीखना चिल्लाना शुरू कर दिया। कुछ देर के बाद बैंक मैनेजर ने भी सीसीटीवी कैमरे मैं देख कर उक्त व्यक्ति की पहचान कराने की कोशिश की लेकिन सफलता नहीं मिली इस संबंध में उन्होंने बताया कि बैंक के बाहर जिस व्यक्ति को उन्होंने पैसा दिया वह बैंक का कोई कर्मचारी नहीं था बिना जान पहचान के व्यक्ति को पैसा देने की वजह से इनके साथ ऐसी घटना घटी वहीं पुलिस ने ऐसी किसी भी घटना की जानकारी होने से इनकार किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button