उत्तर प्रदेश

ऑपरेशन कायाकल्प 30 सितंबर तक पूर्ण करने का निर्देश

ऑपरेशन कायाकल्प 30 सितंबर तक पूर्ण करने का निर्देश

सोनभद्(वली अहमद सिद्दीकी)ऑपरेशन विद्यालय कायाकल्प और कोविड-19 संक्रमण से बचाव और नियंत्रण विषय पर जिला प्रशासन, यूनिसेफ और बेसिक शिक्षा विभाग सोनभद्र के संयुक्त तत्वाधान में एक जनपद स्तरीय विबिनार का आयोजन किया गया जिसमें 2200 प्रतिभागियों ने ऑनलाइन समूह में एवं 4400 लोगों ने यूट्यूब लिंक के माध्यम से प्रतिभाग कर प्रशिक्षण प्राप्त किया।  प्रदेश सरकार ने परिषद के समस्त विद्यालयों का कायाकल्प करने हेतु 30 सितंबर 2020 तक का लक्ष्य निर्धारित किया है। वैश्विक महामारी कोविड-19 का प्रभाव विद्यालय कायाकल्प पर भी पड़ा जिसके लिए एक योजनाबद्ध और समन्वयक प्रयास की आवश्यकता थी। इस वेबिनार जिला प्रशासन , पंचायतराज, बेसिक शिक्षा विभाग, खनन विभाग, सीएसआर से जुड़े औद्योगिक प्रतिष्ठान को एक मंच पर आने का मौका मिला। विबिनार की शुरुआत जिलाधिकारी एस.राजालिंगम द्वारा जनपद में चल रहे सोन स्कूल कायाकल्प की वस्तु स्थिति और भावी योजनाओं को बताते हुए किया गया। उन्होंने कहा कि सभी स्टेकहोल्डर्स को अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन ईमानदारी से करना होगा । शिक्षकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें बच्चों के लिए उत्कृष्ट वातावरण बनाने की जरूरत है, उन्हें स्वप्रेरित होने के लिए कहा क्योकि वे समाज और देश के भविष्य का निर्माण करते हैं, शिक्षकों ने अगर अपनी जिम्मेदारी को समझ लिया तो क़्वालिटी एडुकेशन की चिंता नही करनी पड़ेगी।

मुख्य विकास अधिकारी अजय द्विवेदी विद्यालय कायाकल्प के लिए सीएसआर और डीएमएफ के माध्यम से स्मार्ट क्लास एवं बच्चों के बैठने के लिए ड्यूल डेस्क समस्त विद्यालयों में लगाए जाने की योजना पारित होने की बात साझा की। उन्होंने बताया समस्त विद्यालयों में बच्चों के अनुसार आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराना और उनका उपयोग करना सुनिश्चित किया जायेगा।यूनिसेफ उत्तर प्रदेश के द्वारा विद्यालय में स्थापित होने वाले महत्वपूर्ण कंपोनेंट की और उसके मापदंड की जानकारी दे दी गई।जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉक्टर गोरखनाथ पटेल ने जनपद सोनभद्र में समस्त 2458 विद्यालयों के कायाकल्प के लिए निर्मित आधार पुस्तिका समस्त विद्यालयों और प्रधानों के पास उपलब्ध होने की बात बताई। उन्होंने कहा कि बाला बिल्डिंग ऐसे लर्निंग ऐड की जिम्मेदारी पूरी तरह से शिक्षकों की ही है वह इसे ध्यान पूर्वक अपने स्कूल में विकसित करवाएं इससे न केवल विद्यालय का परिसर आकर्षक होगा बल्कि बच्चों के अधिगम स्तर , ठहराव और उपस्थिति में भी सुधार आएगा।वेबिनार में शिक्षकों में चैट बॉक्स के माध्यम से अपने विद्यालय मे कायाकल्प संबंधित समस्याओं को पैनलिस्ट के समक्ष रखा। कार्यक्रम का संचालन विक्रम कुमार वाश ऑफिसर यूनिसेफ के द्वारा किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button