उत्तर प्रदेश

चोरी ऊपर से सीना जोरी क्यों करते हैं रेलवे के आई०ओ०डब्ल्यू अधिकारी

चोरी ऊपर से सीना जोरी क्यों करते हैं रेलवे के आई०ओ०डब्ल्यू अधिकारी 

चोपन आई ओ डब्लू द्वारा पत्रकार पर फर्जी मुकदमा दर्ज करवाने का मिला धमकी

चोपन(संवाददाताअशोक मद्धेशिया)हम केंद्र सरकार के रेलवे अधिकारी हैं जब चाहें तब कुद्द भी कर सकते हैं जैसे कि रेलवे क्वार्टर या अवैध रूप से कब्जा धारी लोगों को हटाने और विकास करवाने में कोई भी आये तो हम पीछे नही हटने वाले लेकिन शायद अब यह अपनी ड्यूटी छोड़कर कर कम समय मे बड़ा नाम बनाना चाहते हैं लेकिन सिस्टम से उतर कर जी हां बताते चले कि रेलवे रूम में रह रहा ब्यक्ति अपना क्वार्टर खाली कर दिया था लेकिन कुछ सामान छूट गया था तो उसे दूसरे दिन हटाने को सोच कर छोड़ दिया लेकिन यहां दबंगई के बल दिखाने वाले अधिकारी आई०ओ०डब्ल्यू रतन शंकर गुप्ता ने रातों-रात माफिया के तरह उस क्वार्टर का ताला तुड़वा दिया जहाँ पत्रकार राहुल शर्मा अपना कुछ छोड़ दिया था दूसरे दिन ले जाने के लिए वही धमकी साहब आई०ओ०डब्ल्यू देने लगे फ़र्ज़ी मुकदमा में फंसाने के धमकी आपको बताते चले कि आई०ओ०डब्ल्यू० अधिकारी का कार्य रेलवे के क्वार्टर का देख-रेख और उसमें बिगड़े हालतों को सही करवाने के लिए होता हैं लेकिन यह पॉवर का गलत इस्तेमाल करने वाले अपने मन का कार्य करने पर उतारू हो जाते है और दबंगई के बल पर प्राइवेट कर्मचारियों को रहने का स्थान देने लगते हैं केवल चंद पैसों के लिए अपने तेवर को किसी भी तरह पेश करने पर उतारू हो जाते हैं वही बता दे कि आई०डब्ल्यू० अधिकारी के संज्ञान में रेलवे के क्वार्टरों में सैकड़ों प्राइवेट लोगों को जगह दी गई हैं लेकिन कभी भी इस विषय में अधिकारी चर्चा नही करते हैं आखिर क्यों जब पत्रकारों द्वारा इस विषय में चर्चा किया जाता हैं तो पत्रकारों अशब्द भाषाओं का प्रयोग करने लगते हैं।

देश का चौथा स्तंभ कहा जाता हैं मीडिया लेकिन इन अधिकारियों के दबंगई उनके कमलों को तोड़ने का धमकी दिया जाता हैं ,जिससे मीडिया उनकी दादागिरी को उजागर न कर सके।

वर्तमान में रेलवे के कार्य चल रहे हैं उसमें सैकड़ों सालों से रह रहे लोग रेलवे के सम्प्प्ति को छोड़कर चले गए कुछ लोगो को नोटिस दे कर हटाया गया और तोड़फोड़ कर के रेलवे के कार्य और विकास के लिए हटवाया गया उसमे भी यह रेलवे के दबंगई अधिकारी मुँह देखा कार्य करवाने में पीछे नही हटे और यूनियन ऑफिस के ठीक सामने के दुकानदारों और रहनवासियो को भी हटा कर उनके बने इमारत को तोड़ दिया लेकिन वहाँ बसे एक घर को छोड़ दिया जैसे कि आई०ओ०डब्ल्यू० रतन शंकर के रिश्तेदार हैं जो मुँह देखकर एक घर को छोड़ दिया गया ।

बाकी को हटाने का ठीका रेलवे प्रशासन सहित लोकल प्रशासन को साथ लेकर अपनी ड्यूटी निभाने में कोई कसर नही छोड़े औऱ पत्रकार को फर्जी मुकदमे में भी फसाने का धमकी दे दिए साहब ।।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button