नेशनल

राजस्थान , राज्यपाल कलराज  ने 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति दी

जयपुर, ।  काफी जद्दोजहद के बाद राजस्थान के राज्यपाल कलराज  ने 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति दे दी। करीब दो सप्ताह तक राज्यपाल और अशोक गहलोत सरकार के बीच टकराव चला। आखिरकार राज्यपाल ने बुधवार राज गहलोत मंत्रिमंडल की सिफारिश मानते हुए सत्र बुलाने की अनुमति दे दी है। विधानसभा सत्र वैसे तो कोरोना महामारी पर विचार को लेकर बुलाया जा रहा है। लेकिन गहलोत सरकार का असली मकसद बहुमत साबित करना है।

सरकार सत्र के दौरान आधा दर्जन विधेयक सदन में पेश करेगी, इसके लिए व्हिप जारी किया जाएगा। सरकार का मानना है कि सचिन पायलट सहित उनके समर्थक 19 विधायकों अपनी सदस्यता बचाए रखने के लिए सदन में आकर सरकार के पक्ष में मतदान करना होगा, यदि खिलाफ मतदान करेंगे गहलोत सरकार स्पीकर के माध्यम से उन्हे अयोग्य ठहराने की कार्रवाई करेगी।

सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के 19 विधायकों की बगावत और 3 निर्दलीयों के सचिन पायलट का साथ देने के कारण बहुमत के किनारे पर खड़ी गहलोत सरकार के लिए भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) का समर्थन वरदान साबित होगा। पहले बीटीपी के राष्ट्रीय नेतृत्व ने बीटीपी के दो विधायकों रामप्रसाद डिंडोर व राजकुमार रोत को तटस्थ रहने की हिदायत दी थी। लेकिन सीएम गहलोत व कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष अहमद पटेल के प्रयासों के बाद बीटीपी ने यू-टर्न ले लिया। अब ने बीटीपी ने खुल कर अशोक गहलोत की सरकार का समर्थन कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button